हिम्मत इतनी तो नहीं मुझमे के तुझे दुनिया से छीन लूँ , लेकिन मेरे दिल से कोई तुझे निकाले, इतना हक तो मैंने खुद को भी नहीं दिया..