हर शख्स को नफरत झूठ से है,
मैँ परेशा हूँ सोच कर कि फिर ये झूठ बोलता कौन है…….