हम तो आँखों में संवरते हैं,
वहीँ संवरेंगे,
हम नहीं जानते आईने कहाँ रखें हैं …