क्यों पहनती हो चूड़ी, क्यों पहनती हो कंगना, सजने का ही शोक है तो फिर बना लो न सजना |