हजारों झोपड़िया जलकर राख होती हैं,
तब जाकर एक महल बनता है.
आशिको के मरने पर कफ़न भी नहीं मिलता, हसीनाओं के मरने पर “”ताज महल”” बनता है.