सुना है सब कुछ मिल जाता है ‘दुआ’ से ,
मिलते हो खुद ? या माँगु तुम्हें ‘खुदा’ से …..!!