सीढ़ियाँ उनके लिए बनी हैं,
जिन्हें छत पर जाना है |
लेकिन जिनकी नज़र ,
आसमान पर हो,
उन्हें तो रास्ता ख़ुद बनाना है |