शौक से तोड़ो दिल मेरा मैं क्यों परवाह करूँ…..! तुम ही रहते हो इसमें अपना ही घर उजाड़ोगे….!