वो कहने लगी, नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच ? में ने मुस्करा के कहा, तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था “इश्क”, हज़ारों के बीच.”