वो इस चाह में रहते है के हम उनको उनसे मांगे, और हम इस गुरुर में रहते है के हम अपनी ही चीज़ क्यूँ मांगे…………..