ये जमीनकी फ़ितरत है की हर चिजको सोख लेती है ….
,,, वर्ना ,,
इन आँखों से गिरनेवाले आंसुऔ का एक अलग समंदर होता !!!