मै झुकता हूँ हमेशा आँसमा बन के …
जानता हूँ कि ज़मीन को उठने की आदत नही…….