मैं मर भी जाऊ,
तो उसे ख़बर भी ना होने देना ….
मशरूफ़ सा शख्स है,
कही उसका वक़्त बर्बाद ना हो जाये …