मैं अपनी मौज़ में डूबा हुआ जज़ीरा हूँ उतर गया है समंदर बुलन्द पा के मुझ