मेरे पिठ पे जो जख्म हे वो दोस्तो कि निशानी हे…, वरना सिना तो आज भि दुश्मनो के इण्तजार मे बेठा हे….!