मतलबी दुनिया के लोग खड़े हैं, हाथो में पत्थर लेकर, मैं कहा तक भागू शिशे का मुकद्दर लेकर..