“बिखरने दो होंठों पे हंसी के फुहारों को दोस्तों, प्रेम से बात कर लेने से जायदाद कम नहीं होती….!