बादशाह तो में कहीं का भी बन सकता हूँ पर तेरे दिल की नगरी में हुकूमत करने का मज़ा ही कुछ अलग है………