ना शाखों ने जगह दी ,,
ना हवाओं ने बख्शा..!!
मैं हूँ टुटा हुआ पत्ता ,,
आवारा ना बनता तो क्या करता ..?