दीदार की ‘तलब’ हो तो नज़रे जमाये रखना ‘ग़ालिब’ क्युकी, ‘नकाब’ हो या ‘नसीब’…..सरकता जरुर है.