तेरी मुहब्बत भी किराये के घर की तरह थी….. कितना भी सजाया पर मेरी नहीं हुई….