तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ ले आए हो… दोस्त ये सिक्का तो बरसों से नहीं चलता…!!