जीत तो सकते थे हम भी इश्क की बाज़ी,
पर तुम्हे जितने के लिए हम हारते चले गये….