ख्वाहिशों को जेब में रखकर निकला कीजिये, जनाब; खर्चा बहुत होता है, मंजिलों को पाने में!