क्यूँ उदास बेठे हो इस तरहा अंधेरे मैं,,
दुःख कम नहीं होते रौशनी बुझाने से.