क्या रखा है अपनी ज़िँदगी के इस अफ़साने मेँ.. कुछ गुज़र गई अपना बनाने मेँ, कुछ गुज़र गई अपनो को मनाने मेँ..