कुर्बान हो जाऊँ उस सख्श की हाथों की लकीरों पर जिसने तुझे माँगा भी नहीं और तुझे पा भी लिया,