किनारे पर तैरने वाली लाश को देखकर ये समझ आया ….
” बोझ शरीर का नही साँसों का था !!”