कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया करो ताल्लुक़ हमसे…. अब ख़्वाबों की मुलाक़ातों से तसल्ली नहीं होती….”