कभी फूलों की तरह मत जीना,
जिस दिन खिलोगे… टूट कर बिखर जाओगे । जीना है तो पत्थर की तरह जियो; जिस दिन तराशे गए… “खुदा” बन जाओगे ।।