ऐ ईश्क सुना था के…
तु अंन्धा है फिर मेरे धर का राश्ता तुजे कीसने बताया!!!?