उधार के उजाले से चमकने वाले चाँद कि आँखों में चुभता हूँ जुगनू हूँ थोडा लेकिन खुद का उजाला लेके घूमता हूँ