ईलाज न ढुँढ तु ईश्क का वो होगा ही नही ,
ईलाज मर्ज का होता है ईबादत का नही..!