आइना देखा जब ,तो खुद को तसल्ली हुई, ख़ुदग़र्ज़ी के ज़माने में भी कोई तो जानता है हमें ..!!