अगर भगवान नहीं हैं तो जिक्र क्यों. ..?
और अगर भगवान हैं तो फिर फिक्र क्यों. ..!!