माना के तेरी नज़र के काबिल नहीं हूँ मैं,
कभी उन से भी पूछ, जिन्हें हासिल नहीं हूँ मैं!!