ये कफ़न, ये जनाजे, ये कबर…
रस्म-ऐ-दुनिया है दोस्त, मर तो इंसान तब ही जाता है जब याद करने वाला कोई न हो…

Advertisements